Breaking News
Home / देश / चीनी मिल की मनमानी – दर दर भटकने को मजबूर गन्ना किसान

चीनी मिल की मनमानी – दर दर भटकने को मजबूर गन्ना किसान

केंद्र और प्रदेश सरकार किसानों की आय दोगुनी करनी की बात भले ही कह रही है , लेकिन मौजूदा हालात देखने के बाद ऐसा लग नहीं रहा है | पहले आलू किसान और अब यूपी के गन्ना किसानों की हालत खराब है | हम बात कर रहे है यूपी के अम्बेडकरनगर जिले की , जहाँ पर बुआई का अभी तक लगभग 60 प्रतिशत ही गन्ना किसानो ने चीनी मिल को आपूर्ति किया है | वही 40 प्रतिशत गन्ने की फसल अभी खेतो में खड़ी सूख रही है ,
यह हालत तब है जब मौजूदा पेराई सत्र समाप्त होने की कगार पर है | किस्मत के मारे किसान अपने गन्ने की फसल बेंचने के लिए अधिकारियों और मिल के चक्कर काँटने को मजबूर हो रहे है , लेकिन इनको सिर्फ जिम्मेदार अधिकारी आश्वासन की घुट्टी पिला रहे है |

– अम्बेडकरनगर जिले में यदि सरकारी आँकङो की बात करें तो इस बार 20 हजार 446 हेक्टेयर गन्ने की खेती किसानो द्वारा की गई है, जिसमे 11,649 हेक्टेयर भूमि पर किसानो ने गन्ने का पौधा रोपा था और 8797 हेक्टेयर भूमि पर पेड़ी लगाईं थी | लेकिन मौजूदा समय में जिले की एकलौती अकबरपुर चीनी मिल ” ने 12 मार्च तक किसानो का सिर्फ 47 लाख 87 हजार कुन्तल गन्ने की खरीद की है , और शेष गन्ना किसानो का अभी खेतो में या तो खड़ा है या फिर जिन किसानो ने अगली फसल के इरादे से गन्ने की फसल कटवा दिया है , उनका गन्ना बिक्री की पर्ची न मिल पाने के कारण खेतो में ही सूख रहा है | जिसको लेकर किसान काफी परेशान है , किसानो का कहना है कि मिल उन्हें पर्ची नहीं दे रही है , जिसके कारण हम काफी परेशान है ,

-वही अब गन्ना पर्ची न मिलने से नाराज किसानो का धैर्य अब जवाब देने लगा है | जिसका नतीजा है कि मौजूदा बीजेपी विधायक को भी किसानो ने खरी-खोटी सुनाना शुरू कर दिया है | वही गन्ना किसानो ने मिल प्रशासन पर किसानो के बजाय दलालों का गन्ना खरीदने आ आरोप लगाया |

Check Also

PM Modi आज लेगें Cabinet की पहली बैठक

अमित शाह मिल सकता है वित्त मंत्रालय का दरजा Report By शिवानी डोभाल समाचार India …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *