Breaking News
Home / देश / पाँवटा में राष्ट्रीय राज मार्ग एन एच 7 पर विलंब से हो रहे पुल निर्माण में बरती जा रही है कई अनियमितताएं
Paonta Sahib, Himachal Pradesh Pooll

पाँवटा में राष्ट्रीय राज मार्ग एन एच 7 पर विलंब से हो रहे पुल निर्माण में बरती जा रही है कई अनियमितताएं

पाँवटा में राष्ट्रीय राज मार्ग एन एच 7 पर विलंब से हो रहे पुल निर्माण में बरती जा रही है कई अनियमितताएं

पाँवटा साहिब से जाने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग एनएच 7 पर गिरी नदी के ऊपर बना पुल जिस को बात्ता पुल भी कहा जाता है यह पुल बहुत ही अहम भूमिका रखता है क्योंकि हरियाणा और हिमाचल प्रदेश दोनों राज्यों की सीमाओं को जोड़ने में यह पुल अपनी अहम भूमिका रखता है। 1950 के दशक से भी पहले बने इस पुल की जर्जर स्थिति होने के चलते प्रदेश सरकार ने एक नए पुल के निर्माण की स्वीकृति दे दी थी जिसके निर्माण की समय अवधि 3 वर्ष तय की गई थी करोड़ों रुपए से स्वीकृत इस पुल का निर्माण वर्ष 2017-18 में पूर्ण हो जाना चाहिए था लेकिन इस पुल के निर्माण कार्य को 4 वर्ष बीत जाने के बाद भी वर्तमान में यह पुल निर्माणधीन है जिस तरह से इस पुल का निर्माण कार्य चल रहा है उसको देखते हुए तो नहीं लगता कि इस वर्ष भी इसका निर्माण कार्य पूरा हो पाएगा।

दूसरी ओर आपको बताते चलें कि इस पुल के निर्माण में भारी अनियमितताएं बरती जा रही है। इसके रैंप की दीवारों की गहराई कम रखी गई है इसके रैंप की भराई भी ठोस सामग्री जैसे आर पी एम के इस्तेमाल न करते हुए खेतों की मिट्टी डाली जा रही है जिससे रैंप कुछ ही महीनों में बैठ जाएगा बाकी आप खुद ही अंदाजा लगा सकते हैं कि जब रैंप का यह हाल है तो पुल के निर्माण में किस किसम की सामग्री का इस्तेमाल किया जा रहा होगा ।

अगर मजदूरों की सुरक्षा* की बात करें तो सभी मानकों को दरकिनार करते हुए ठेकेदार द्वारा ना तो मजदूरों को सुरक्षा के लिहाज से हेलमेट दिए गए हैं और ना ही मजदूरों के पैर में जूते नजर आते हैं जबकि किसी भी पुल के निर्माण में लगे मजदूरों को कंपनी द्वारा सुरक्षा के लिहाज से हेलमेट,जूते और जैकेट दिए जाते हैं दूसरा यहां कुछ नाबालिक बच्चे भी मजदूरी करते नजर आ रहे हैं आखिर इतनी अनियमितताएं बरती जाने के बावजूद भी प्रशासन इतनी अनदेखी क्यों कर रहा है क्या ठेकेदार को किसी का राजनीतिक संरक्षण प्राप्त है जिसके चलते प्रशासन मौन स्थिति धारण किए हुए हैं खैर वजह चाहे जो भी हो अगर पुल निर्माण घटिया तरीके से किया जा रहा है तो यह सरकारी पैसे का दुरुपयोग है जो जनता की गाढ़ी कमाई का ही हिस्सा है।
राजिक खान/सदीप दुबे
समाचार इंडिया

Check Also

Shri Mahant Indiresh Hospital

उत्तराखंड के देहरादून के इस बड़े अस्पताल पर लगा 11लाख 80 हज़ार का जुर्माना

उत्तराखंड के देहरादून के इस बड़े अस्पताल पर लगा 11लाख 80 हज़ार का जुर्माना उत्तराखंड …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: