Breaking News
Home / उत्तर-प्रदेश / उत्तराखंड के देहरादून के इस बड़े अस्पताल पर लगा 11लाख 80 हज़ार का जुर्माना
Shri Mahant Indiresh Hospital
Shri Mahant Indiresh Hospital

उत्तराखंड के देहरादून के इस बड़े अस्पताल पर लगा 11लाख 80 हज़ार का जुर्माना

उत्तराखंड के देहरादून के इस बड़े अस्पताल पर लगा 11लाख 80 हज़ार का जुर्माना

उत्तराखंड के देहरादून से एक अहम खबर सामने आई है…। जो कि देहरादून के एक बड़े हास्पिटल से जुड़ी है..। देहरादून के एक बड़े अस्पताल पर 11लाख 82 हजार रुपये का जुर्माना लगाया गया है… जुर्माना किस वजह से लगाया है…. और क्यों लगाया है…. यह भी हम आपको बता रहे हैं…. दरअसल एक क्षेत्रीय वेबसाइट के माध्यम से पता चला है…कि समय पर मरीज को इलाज ना देने और परिजनों को लंबा-चौड़ा बिल थमाने पर उत्तराखंड हेल्थ डिपार्टमेंट ने एक अस्पताल पर 11.82 लाख रुपए का जुर्माना लगाया है…।

डिपार्टमेंट ने यह जुर्माना इसलिए लगाया है… क्योंकि मरीज का इलाज अलट आयुष्मान योजना के तहत किए जाना था…। इसके बावजूद अस्पताल ने मरीज की सर्जरी के लिए एस्टिमेट बनाकर परिजनों को थमा दिया…। बता दें, इस प्रकरण में मरीज की समय पर इलाज न मिलने के कारण स्थिति लगातार बिगड़ती गई और बाद में उसकी मृत्यु हो गई। दरसल पिंकी प्रसाद की मौत को लेकर सवाल खड़े किए गए थे… जिसके बाद अटल आयुष्मान उत्तराखंड योजना और स्वास्थ्य महानिदेशालय ने मामले की जांच की…. जांच में महंत इंद्रेश अस्पताल पर गड़बड़ी सही पाई गई… जिसको देखते हुए प्रशासन ने महंत इंद्रेश पर 11लाख 82 हजार रुपए का जुर्माना ठोक दिया है…आपको हम बता दें वह तारीख थी 21 जनवरी…. आपने देखा ही होगा कि जो गरीब परिवार है… जिसको अपना इलाज कराना होता है… वह शहर या फिर राज्य के बड़े अस्पताल में पहुंचता है… इसी तरह से 21 जनवरी को कोटद्वार निवासी पिंकी प्रसाद को महंत इंद्रेश हॉस्पिटल में रेफर किया गया था… पिंकी प्रसाद की ओपन हार्ट सर्जरी होनी थी… लेकिन 29 जनवरी को इंद्रेश अस्पताल में मरीज को 2 लाख 36 हजार 500 रूपये का बिल थमा दिया गया..

जबकि ओपन हार्ट सर्जरी का इलाज आयुष्मान योजना के तहत मुफ्त किया जाना चाहिए था…। लेकिन बात यहीं नहीं रुकी… बात आगे बढ़ती है… पिंकी प्रसाद ने परेशान होकर तहसील में धरना दिया……. व मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर इलाज के लिए अनुरोध किया.. मरीज को समय पर इलाज ना मिलने के कारण उसकी स्थिति लगातार बिगड़ती गई और बाद में उसकी मृत्यु हो गई। जिसके बाद इस पूरे मामले में पहाड़ क्षेत्र के एक न्यूज़ पोर्टल में खबर प्रसारित की गई.। जिसके बाद यह खबर उत्तराखंड स्वास्थ्य महानिदेशालय के पास पहुंची.. जिसके बाद उत्तराखंड स्वास्थ्य महानिदेशालय नें अटल आयुष्मान उत्तराखंड योजना से पूरे प्रकरण की जांच कराई गई…. जांच में पाया गया है कि महंत इंद्रेश अस्पताल ने गड़बड़ी की है…. जिसके बाद महंत अस्पताल पर 11,82,000 रुपए का जुर्माना लगाया गया…. अटल आयुष्मान योजना के मुख्य कार्यकारी अध्यक्ष जुगल किशोर ने जुर्माना भरने के आदेश जारी किया है

वही इस संबंध में श्री महंत इंदिरेश अस्पताल के सीनियर पीआरओ भूपेन्द्र का कहना है कि, मरीज सर्जरी लायक अवस्था नहीं थी…। कुछ दिन के इलाज के बाद स्टेबल होने पर ही उन्हें डिस्चार्ज किया गया था…। लेकिन, मरीज दोबारा अस्पताल नहीं आईं..। वहीं, खर्च का एस्टिमेट दिए जाने के बारे में अस्पताल की ओर से संतोषजनक उत्तर नहीं दिया गया…। मरीज के परिजन और अस्पताल प्रबंधन से मिले सबूतों के आधार पर राज्य स्वास्थ्य अभिकरण की कार्यकारिणी समिति की बैठक में अस्पताल पर 11.82 लाख रुपए का जुर्माना लगाया है…।

अगर आपके पास भी इसी प्रकार से कोई खबर है तो हमें लिख भेजेगा हमारा ईमेल एड्रेस है

acsamacharindia@gmail.com

Check Also

फैजाबाद लोकसभा: BJP सांसद प्रत्याशी पर Vote के लिए एक दिन पहले शराब बटवाने का आरोप, भाजपा ने कहा सपा की साजिश

आनंदसेन यादव गठबंधन प्रत्याशी पांचवें चरण का मतदान संपन्न होने के बाद फैजाबाद लोकसभा में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: