Breaking News
Home / पंजाब / गेहूं की 450 बोरियों से लदा हुआ ट्रक रास्ते से गायब || Samachar India

गेहूं की 450 बोरियों से लदा हुआ ट्रक रास्ते से गायब || Samachar India

फाजिल्का अनाज मंडी से पिछले करीब 1 महीने से गेहूं की 450 बोरियां बोरियों से लदा ट्रक हुआ रास्ते में गायब ट्रक गुम होने के 20 दिनों बाद मार्कफेड अधिकारियों द्वारा शुरू की मामले की जांच और गायब ट्रक को लेकर सबंधित आड़ती , लिफ्टिंग ठेकेदार और मार्कफेड के अधिकारी लगा रहे हैं एक-दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप ।
 पिछली 20 अप्रैल को फाजिल्का अनाज मंडी से गेहूं की 450 बोरियों से लदा ट्रक  अनाज मंडी की फर्म मुंशीराम अशोक कुमार से चलकर गांव जोड़की अन्धे वाली में मार्कफेड के गोदाम में पहुंचना था लेकिन यह ट्रक रास्ते में ही गायब हो गया इस ट्रक की गुमशुदगी में एक खास पहलू यह भी रहा कि इसके गायब होने से 20 दिन तक अधिकारियों को इसकी सूचना तक नहीं मिली वहीं दूसरी तरफ संबंधित फर्म के आड़ती दोबारा मार्कफेड के कर्मचारी द्वारा दिए गए गेटपास पर लिखे नंबर वाले ट्रक पर ही लोड करवा कर गोदाम में भेजा गया था ।
 व्ही मार्कफेड के अधिकारियों द्वारा इस ट्रक की गुमशुदगी को लेकर लिफ्टिंग ठेकेदार पर इसे गायब करने के आरोप लगाए जा रहे हैं लेकिन लिफ्टिंग ठेकेदार द्वारा गेट पास पर लिखे ट्रक नंबर का कोई भी वाहन गेहू लोड करने के लिए भेजा ही नहीं गया और उसने इस गुमशुदगी को लेकर संबंधित आड़ती और मार्कफेड के अधिकारियों द्वारा की गई आपसी मिलीभगत करके ट्रक को गायब करने के आरोप लगाए हैं ।
फिलहाल मार्कफेड के अधिकारियों द्वारा इस मामले संबंधित फाजिल्का एसएसपी को शिकायत दी गई है और इस मामले की जांच फाजिल्का पुलिस द्वारा की जा रही है जहां पुलिस का कहना है कि जल्द ही इस केस को सुलझा लिया जाएगा और जल्द ही इस मामले की सच्चाई सामने लाई जाएगी और जो भी दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ मामला दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी।
वही इस अनाज से भरे ट्रक की गुमशुदगी को लेकर एक अहम बात सामने आई है की गेट पास पर लिखे नंबर PB22J9816 का वाहन जो चल रहा है वह किसी तेल के टैंकर का नंबर दिखाई दे रहा है और जब इस नंबर वाले व्हीकल की जांच करने के लिए हमने विभाग द्वारा दी गयी वाहनों की रजिस्ट्रेशन चैक करने वाले हेल्पलाइन पर इस नंबर को टाइप कर मैसेज भेजा तो उसमें PB22J 9816 नंबर की गाड़ी तो कोई ट्रक नहीं बल्कि तेल का टैंकर शो हो रहा है ।
 वही जब इस मामले की पूरी तह तक जाने के लिए हमारी टीम द्वारा संबंधित आड़ति की फर्म मुंशी राम अशोक कुमार के संचालक मुंशी राम से ट्रक की गुमशुदगी संबंधी बात की तो उन्होंने कहा कि मार्कफेड के कर्मचारी द्वारा जो गेटपास दिया गया था उसके अनुसार यह नंबर PB22J 9816 जिस पर उन्होंने 450 बोरी गेहूं गोदाम भेजने के लिए मार्कफेड के कर्मचारी के सामने लोड करवाया था उन्होंने कहा कि उनकी जिम्मेदारी सिर्फ यहां से माल लोड करवाकर माल की गिनती करवा कर माल भेजने क  है और इसको आगे गोदाम में भेजने का काम ट्रांसपोर्टर का है उसने कहा कि इस मामले के 20 दिन बाद संबंधित अधिकारियों द्वारा उन्हें इस मामले की सूचना दी गई है उसने कहा कि यह गेटपास असली है या नकली है यह तो मार्कफेड के कर्मचारी ही बता सकते हैं हमारे पास जो ट्रक वाला गेट पास ले कर आया था हमने उस नंबर के वाहन पर लोड करवा कर माल भेज दिया था ।
वही इस मामले संबंधी जब मार्कफेड के जिला अधिकारी गुर पूरण सिंह से बात की तो उन्होंने कहा कि उन्हें भी ट्रक के गायब होने की जानकारी कितने दिनों बाद लगी है की अनाज मंडी से  गेहूं से लदा ट्रक जो गांव जोड़की अंधे वाली के गोदाम में जाना था वह कोई धोखे से लेकर फरार हो गया है उन्होंने कहा कि उन्होंने इस गुमशुदगी संबंधी फाजिल्का SSP को एक शिकायत दे दी है उन्होंने कहा कि इस गुमशुदगी संबंधी उन्होंने लिफ्टिंग ठेकेदार को भी नोटिस दे दिया गया है उन्होंने कहा कि गेहूं से भरा ट्रक अगर उन्हें ना मिला तो इसकी भरपाई लिफ्टिंग ठेकेदार के बिल से की जाएगी उन्होंने कहा कि उनके कर्मचारी द्वारा ट्रक के उपर लगी नंबर प्लेट के नंबर पर ही  गेट पास काटा गया है लेकिन उन्होंने जब जांच की तो यह नंबर नकली पाया गया उन्होंने कहा कि किसी ने यह फर्जी नंबर प्लेट लगाई गई थी उन्होंने कहा कि यह 450 गेहूं की बोरियों से लदा ट्रैक्टर फाजिल्का अनाज मंडी से मार्कफेड के गोदाम में जाना था और इसकी कीमत 4 लाख 50 हज़ार रूपय बनती है ।
वही जब इस मामले संबंधित लिफ्टिंग ठेकेदार निशान्त कुमार से बात की तो उन्होंने बताया कि ट्रक के गायब होने का मामला 20 अप्रैल का है जो 450 बोरियों से लदा ट्रक गायब हुआ था लेकिन इसकी सूचना मार्कफेड के अधिकारियों द्वारा उन्हें बीती 10 मई को दी गई है जबकि इसके दो दिन पहले ही लिफ्टिंग का सारा काम मुकम्मल हो चुका है उसने कहा कि इस गेट पास के ऊपर जो नंबर ट्रक का लिखा हुआ है उस नंबर की कोई भी गाड़ी उनके द्वारा लोडिंग करने के लिए नहीं भेजी गयी उन्होंने कहा कि उनका ठेका होने से पहले उन्होंने संबंधित विभाग को सभी गाड़ियों की लिस्ट भेजी गई थी और इन 532 गाड़ियों के नंबर में से कोई भी गाड़ी इस नंबर की नहीं है उसने कहा कि यह सब आड़ती और मार्कफैड केअधिकारियों की मिलीभगत के चलते हुआ है उन्होंने कहा कि उनके मुताबिक इस नंबर का कोई ट्रक लोड ही नहीं किया गया है उन्होंने कहा कि इस मामले को लेकर उनके द्वारा भी जिला पुलिस को इसकी शिकायत दी जाएगी और इस मामले की गहराई से जांच करवाने की अपील की जाएगी उन्होंने कहा कि अगर संबंधित विभाग के गोदामों की गहराई से जांच की जाए तो इसमें और भी कई घपले सामने आ सकते हैं ।
 वही इस मामले संबंधी पंजाब आप पार्टी के नेता और नेता प्रतिपक्ष सुखपाल सिंह खैहरा ने कहा कि आज पंजाब भर में लाखों घोटाले आए दिन घोटाले हो रहे हैं उन्होंने कहा कि पिछले सीजन भी किसी आदमी का बासमती चावल से लदा ट्रक गायब हुआ था जो कांग्रेस के मंत्री राणा गुरजीत सिंह की शराब फैक्ट्री से बरामद हुआ था उन्होंने कहा कि ऐसे केसों की गहराई से जांच होनी चाहिए और दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए ।
 वही इस गेहूं से लदे ट्रक के गायब होने से सबंधी जब फाजिल्का जिला पुलिस मुखी डॉक्टर केतन बलिराम पाटिल से बात की तो उन्होंने बताया कि मार्कफेड के जिला मनेजर द्वारा उन्हें गेहू से भरे ट्रक के गायब होने की शिकायत दी गई है लेकिन यह घटना पिछले 20 अप्रैल की है और विभाग द्वारा उन्हें करीब 20 22 दिनों बाद मामले की सूचना दी गई है और उनके द्वारा इस गुमशुदगी संबंधी मामला दर्ज कर जांच की जाएगी और जांच में जो भी सामने आया उस पर बनती कार्रवाई कर मामले की सच्चाई को सामने लाया जाएगा ।
 
वही साढ़े चार लाख की कीमत का 450 गेहूं की बोरियों से भरा ट्रक गायब होना और इस मामले की 20 बाईस दिनों बाद पुलिस को शिकायत देना और फर्जी गेटपास पर के नंबर पर गेहूं लोड करके गोदामों में भेजना और लिफ्टिंग ठेकेदार, आड़ती और मार्कफेड के अधिकारियों का आपस में एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप लगाना काफी बड़े घपले की तरफ इशारा कर रहा है और ऐसे मामलों में जिले के उच्च अधिकारियों और पंजाब सरकार को चाहिए कि इस सीजन के दौरान फाजिल्का जिले में हुई पूरी परचेस और गोदामों में की गई सप्लाई और जिले की चारों ख़रीद एजेंसियों द्वारा गेहू की की गई खरीद और गोदामों में पड़ी गई गेहूं कि किसी बड़ी जाँच  एजेंसी से जांच करवाई जाए ताकि सरकार द्वारा करोड़ों रुपए खर्च कर खरीदी गई गेहूं को खुर्द – बुर्द होने और सरकार को लगने वाले करोड़ों रुपए के चूने से बचाया जा सके ।

Check Also

आजादी के दीवाने भगत सिंह का प्रेरणादायक जीवन चरित्र

लेखक– देशराज शर्मा महान क्रांतिकारी देशभक्त शहीद भगत सिंह का जन्म 27 सितंबर, 1907 को …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *