Breaking News
Home / उत्तर-प्रदेश / जब किसान खेत में गए देखें किसानों को क्या मिला

जब किसान खेत में गए देखें किसानों को क्या मिला

शिवानी डोभाल

मां के आँचल तले सारा जहाँ है। यह स्लोगन उस नवजात के लिए सिर्फ कागजो पर
लिखे चंद अक्षर की तरह ही हैं, जिसकी मां उसे लावारिस छोड़ जाए। बेटियों को लेकर
हमारे देश में जहाँ सरकार बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का नारा बुलंद करती है, तो वहीं कुछ
ऐसी तस्वीरें सामने आती है जो दिल दहला जाती है। आज जो खबर आपको हम दिखा रहें
हैं, उसे देखकर आपके दिल में भी ये ही खयाला आएगा । क्या बेटी होना पाप है। अगर
पाप है तो नवरात्रों में क्यूं पूजा जाता है बेटियों को।

बेटियों को मारने का सिलसिला रुकने का नाम ही नही ले रहा है ये ताजा मामला
यूपी के जनपद बहराइच के गोण्डा बहराइच राजमार्ग के पास कोतवाली देहात चिलवरिया चौकी
अन्तर्गत खोरिया शफीक के पास का है। जहाँ सड़क किनारे गन्ने के खेत मे ग्रामीणों ने एक
प्रतिष्ठत हॉस्पिटल के वेबी टॉवेल में लिपटे हुए बच्चे को देखा। ग्रामिणों ने इसकी सूचना
स्थानीय पुलिस को दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने टॉवेल में लिपटे हुए बच्चे को देखा तो पाया
कि बच्चे की मृत्यु हो चुकी थी। नवजात का शव मिलने से जहाँ पूरे क्षेत्र में सनसनी फैल गयी
वही लोगो का कहना है कि सरकार के काफी शख्त निर्देश के बावजूद भी जिला अस्पतालों व
नर्सिंगहोमो में भ्रूण हत्या का खेल बदस्तूर जारी है।


आपको ये भी बताते चलें कि जिस नर्सिग होम के टॉवेल में नवजात को लपेटा पाया
गया था। ग्रामिणों की माने तों उसकी संचालिका भी एक महिला व वर्तमान सरकार की पार्टी
में महिला संगठन की अगुआ है। अब देखना है कि पुलिस की जांच कहाँ से शुरू होती है,क्या
गुनहगार के गिरेबान तक पुलिस के हाथ पहुंचेंगे या फिर मामले को दबाने पर जोर दिया
जाएगा।
इस हैवानियत भारी घटना को देखकर तो बहुत से सवाल उठतें हैं…। सरकार द्वारा
बड़ी बड़ी योजनाएं हैं बेटियों को लेकर…पर जब नही बचेंगी बेटियां तो कैसे पढ़ेंगी और आगे
बढ़ेंगी बेटियां

Check Also

उत्तराखंड उच्च शिक्षा परिषद की आठवीं बैठक सम्पन्न, जाने क्या कुछ बोले -शिक्षा मंत्री धनसिंह

विश्वविद्यालय को महाविद्यालय से अनुमोदित स्वीकृत योजनाओं पर हुई चर्चा Report By शिवानी डोभाल समाचार …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *